विश्व तंबाकू निषेध दिवस: कोविड-19 और धूम्रपान का है गहरा संबंध

झाँसी : तंबाकू, बीड़ी और सिगरेट का सेवन करने से न सिर्फ स्वास्थ्य बल्कि जन, धन, समय आदि की भी हानि होती है। इसके उपभोक्ता न सिर्फ अपने जीवन के साथ खिलवाड़ करते है बल्कि अपनी और परिवार की जमा पूंजी भी इसके इलाज में खर्च कर देते हैं।

जिला तंबाकू नियंत्रण कार्यक्रम के सलाहकार डॉ. प्रतीक गुबरेले बताते है वर्तमान समय में कोविड के प्रसार के लिए तंबाकू भी एक कारण हो सकती है। कोरोना का वायरस छींकने, खांसने और थूकने से निकलने वाली बूंदों के जरिये एक दूसरे को संक्रमित करता है। ऐसे में कोविड संक्रमित के तंबाकू सेवन के बाद यहां वहां थूकने से इसके प्रसार को बढ़ावा मिलता है। प्रदेश में तो खुले में थूकने को दंडनीय अपराध की श्रेणी में शामिल कर लिया गया है।

वही दूसरे रूप में धूम्रपान से व्यक्ति की रोग प्रतिरोधक क्षमता भी कमजोर होती है, इसके अलावा धूम्रपान से श्वसन प्रणाली, सांस की नली और फेफड़ों को भारी नुकसान पहुँचता है। जिससे फेफड़ों की कोशिकाएं कमजोर होने से कोरोना संक्रमण से लड़ने की क्षमता अपने आप कम हो जाती है। यही कारण है कि धूम्रपान न करने वालों की तुलना में धूम्रपान करने वालों को कोरोना का खतरा कई गुना अधिक रहता है।

डॉ. प्रतीक गुबरेले बताते है कि कोविड प्रसार के अलावा धूम्रपान करने या अन्य किसी भी रूप में तंबाकू का सेवन करने वालों को करीब 40 तरह के कैंसर और 25 अन्य गंभीर बीमारियों की चपेट में आने की पूरी सम्भावना रहती है। इसमें मुंह व गले का कैंसर प्रमुख हैं। तंबाकू का सेवन ओरल हाइजीन (मुंह की स्वच्छता) को भी बिगाड़ता है, जिससे कई तरह की समस्याओं का इजात होता है।

विजेता बनने के लिए तम्बाकू छोड़ें

तंबाकू सेवन खतरों और इसके सेवन को रोकने के उद्देश्य से ही हर वर्ष 31 मई को तम्बाकू निषेध दिवस मनाया जाता है। इस दिवस को मनाने की शुरुआत 1987 में विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा की गई थी। इस वर्ष की इस दिवस की थीम ‘विजेता बनने के लिए तंबाकू छोड़े’ है।

क्या कहता हैं आंकड़ा

वैश्विक वयस्क तंबाकू सर्वेक्षण-2 (गैट्स-2) 2016-17 के अनुसार बीड़ी-सिगरेट व अन्य तम्बाकू उत्पादों के सेवन से आज हमारे देश में हर साल करीब लगभग 13 लाख 50 हजार लोग यानि करीब 3 हजार 6 सौ लोग हर रोज दम तोड़ देते हैं। गैर संचारी रोगों से मरने वाले 63 प्रतिशत लोगों तंबाकू एक प्रमुख कारण होता है। वही देश में हर दिन लगभग 5 हजार 5 सौ युवा तंबाकू खाना शुरू कर रहे है।

कोविड सैंपलिंग टीम को दिलाई गई शपथ

विश्व तंबाकू निषेध दिवस के एक दिन पूर्व रविवार को सैंपलिंग टीम प्रबन्धक और तंबाकू प्रोग्राम के मनोवैज्ञानिक पंकज तिवारी ने सभी टीम को तंबाकू छोड़ो अभियान से जोड़ते हुये, तंबाकू का सेवन न करने की शपथ दिलाई। नवम्बर वर्ष 2020 से फरवरी वर्ष 2021 तक शिविरों के माध्यम से लगभग नौ सौ से अधिक लोगों की काउंसिलिंग की गयी है। आम जनमानस काउंसिलिंग के लिए इस नंबर 180-011-2356 पर संपर्क कर सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *