चित्रकूट जेल में खूनी खेल, दो क़ैदियों की हत्या, हत्यारे का एनकाउंटर

चित्रकूट : प्रदेश की अति सुरक्षित जेलों में गिनी जाने वाली ज़िला जेल चित्रकूट की उच्च सुरक्षा बैरक में शुक्रवार को खूनी खेल खेला गया। जेल में बंद एक कैदी ने दो साथी कैदियों की गोली मारकर हत्या कर दी। इसके बाद उसने लगभग पांच अन्य कैदियों को बंधक बना लिया। मगर, पुलिस ने उसे एनकाउंटर में मार गिराया।

जानकारी के अनुसार, ज़िला जेल चित्रकूट में निरुद्ध अंशु दीक्षित पुत्र जगदीश जो कि जिला जेल सुल्तानपुर से प्रशासनिक आधार पर स्थानांतरित होकर चित्रकूट में आया था। अंशु ने शुक्रवार सुबह लगभग 10:00 बजे सहारनपुर से प्रशासनिक आधार पर आए बंदी मुकीम काला तथा बनारस जिला जेल से प्रशासनिक आधार पर आए मेराज अली को असलहे से मार गिराया। इसके बाद उसने पांच अन्य बंदियों को अपने कब्जे में कर लिया। अंशु उन्हें जान से मारने की धमकी देने लगा क्योंकि उसके पास असलहा था।

ऐसे में जिला प्रशासन को सूचना दी गई। चित्रकूट के डीएम और एसपी द्वारा पहुंचकर बंदी को नियंत्रित करने का बहुत प्रयास किया गया। किंतु, वह पांच अन्य बंदियों को भी मार देने की धमकी देता रहा। उसकी आक्रामकता तथा जिद को देखते हुए पुलिस द्वारा कोई विकल्प ना देखते हुए की गई फायरिंग में अंशु दीक्षित भी मारा गया। इस प्रकार कुल 3 बंदी इस घटना में मरे हैं।

अंशु दीक्षित पुलिस द्वारा, जबकि मुकीम काला और मेराज अली को अंशु दीक्षित ने असलहे से मारा है। कारागार में तलाशी कराई जा रही है। सबसे बड़ा सवाल यह खड़ा होता है कि जेल में हथियार कैसे पहुंचा।

जिलाधिकारी तथा एसपी मौके पर मौजूद हैं तथा घटनाक्रम की जानकारी प्राप्त कर रहे हैं। अन्य विवरण प्राप्त होते ही अवगत कराया जाएगा। फिलहाल कारागार में शांति है तथा स्थिति नियंत्रण में है।

मुख्तार अंसारी से थे संबंध !

ऐसा बताया जा रहा है कि मुकीम और मेराज कुख्यात अपराधी थे और लगातार अंशु को परेशान किया करते थे। सूत्रों के अनुसार संबंध मुख्तार अंसारी से भी थे। इसका फायदा उठाकर ये जेल में बंद अन्य कैदियों को परेशान किया करते थे।

 

जनसेवा एक्सप्रेस खबर को लगातार अपडेट कर रहा है…..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *