कांग्रेस पार्षद की बेटी की हत्या ‘लव जिहाद’ नहीं, राजनीति कर रही बीजेपी; भड़के सिद्धारमैया

नई दिल्‍ली । कर्नाटक में हुबली हत्याकांड पर राज्य के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने बड़ा बयान दिया है। उन्होंने इसे ‘लव जिहाद’ का मामला मानने से इनकार किया। उन्होंने कहा, ‘यह लव जिहाद का मामला नहीं है।

मैं इस घटना की कड़ी निंदा करता हूं। इस मामले में अपराधी को गिरफ्तार कर लिया गया है। आगे की जांच गंभीरता से चल रही है और हम अपराधी को सजा भी देंगे।’ सिद्धारमैया ने कहा कि हमने कानून-व्यवस्था, शांति और सद्भाव बनाए रखने के लिए पूरी कोशिश की। उन्होंने कहा, ‘भाजपा इस मुद्दे का इस्तेमाल राजनीति के लिए कर रही है। यह निंदनीय है। एक राजनीतिक दल (भाजपा) किसी लड़की की हत्या को राजनीतिक मकसद के लिए इस्तेमाल कर रहा है।’

उपमुख्यमंत्री डीके शिवकुमार ने दावा किया कि भाजपा गुप्त रूप से राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाने की योजना बना रही है। दरअसल, बीजेपी का आरोप है कि हुबली-धारवाड़ नगर निगम के पार्षद की बेटी की उसके कॉलेज के परिसर में ही हत्या से राज्य में कानून व्यवस्था की स्थिति खराब हो गई है। इस घटना की बड़े पैमाने पर निंदा हुई और विरोध प्रदर्शन हुए। शिवकुमार ने कहा, ‘भाजपा हमें धमकाने की कोशिश कर रही है। कर्नाटक में सबसे अच्छी कानून-व्यवस्था है। वे मतदाताओं को बताना चाहते हैं कि वे राज्यपाल शासन लगाने जा रहे हैं। आर अशोक (भाजपा नेता और विपक्ष के नेता) गोपनीय तरीके से कोशिश कर रहे हैं। वे राज्य को राज्यपाल शासन के अधीन रखना चाहते हैं, इसलिए वे यह सब नाटक कर रहे हैं।’

बढ़ रहीं ‘जिहादी गतिविधियां’, बोले पूर्व सीएम शेट्टार

कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री जगदीश शेट्टार ने आरोप लगाया कि कांग्रेस सरकार की तुष्टीकरण नीतियां जिहादी गतिविधियों को बढ़ा रही हैं। बेलगाम लोकसभा क्षेत्र से भाजपा के उम्मीदवार शेट्टार ने कानून और व्यवस्था को लेकर राज्य सरकार की आलोचना की। उन्होंने हुबली के कॉलेज में नेहा हिरेमथ की हत्या को बिगड़ती सुरक्षा स्थिति का ज्वलंत उदाहरण बताया। शेट्टार ने इस बात पर जोर दिया कि केवल आरोपियों को गिरफ्तार करना पर्याप्त नहीं है। उन्होंने कर्नाटक के मुख्यमंत्री, गृह मंत्री और पुलिस विभाग से भविष्य में ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए ठोस कदम उठाने का आह्वान किया।

राज्य के गृह मंत्री ने लव जिहाद पर क्या कहा

इससे पहले, राज्य के गृह मंत्री जी परमेश्वर ने मामले से जुड़े लव जिहाद के आरोपों का खंडन किया था। परमेश्वर ने बयान जारी करके उन दावों को खारिज कर दिया जिनमें इस अपराध को सांप्रदायिक कोण दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जांच से संकेत मिलता है कि नेहा और आरोपी फयाज के बीच समय के साथ रिश्ते खराब हो गए थे। गृह मंत्री ने कहा कि हत्या के पीछे का मकसद सांप्रदायिक होने के बजाय व्यक्तिगत प्रतीत होता है। उन्होंने जनता और राजनीतिक दलों से इस संवेदनशील मुद्दे का राजनीतिकरण या सांप्रदायिकरण न करने का आग्रह किया। उन्होंने नेहा की हत्या के पीछे का असली मकसद को सामने लाने के लिये गहन और निष्पक्ष जांच करने के महत्व पर जोर दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *