पुरवा पनवाड़ी हत्याकांड में नया मोड़, चुनावी रंजिश का मामला आया सामने

महोबा : जनपद के थाना अजनर क्षेत्र के ग्राम पुरवा पनवाड़ी हत्याकांड के मामले में ग्रामीण नया मोड़ दे रहे हैं। सोमवार को काफी संख्या में गांव के लोग थाने पहुंचे। इनका आरोप था कि ग्राम पंचायत प्रधानी के चुनाव को लेकर रंजिश के कारण हत्या हुई है। इसमें कई आरोपितों को गलत फंसाया जा रहा है। घटना के बाद से गांव में दूसरे दिन भी सन्नाटा पसरा रहा। पुलिस ने दो और आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया। चार आरोपित रविवार को ही गिरफ्तार कर लिए गए थे।

पुरवा पनवाड़ी में रविवार को जुए के दौरान हुए विवाद में एक युवक की हत्या कर दी गई थी। मृतक के छोटे भाई रामस्वरूप ने आठ लोगों के खिलाफ मुकदमा पंजीकृत कराया था। पहले दिन ही पुलिस ने चार को पकड़ लिया था। दो आरोपितों को सोमवार को पकड़ा गया, जिसमें सीताराम व प्रमोद शामिल हैं। थाना प्रभारी अभिमन्यु यादव ने बताया कि आठ नामजद में छह लोगों को पुलिस ने पकड़ लिया है। दो अभी फरार हैं। इनमें एक मुख्य आरोपित देवकरण पाल शामिल है।

घटना के बाद से ही गांव वाले इक्का दुक्का ही नजर आ रहे हैं। सोमवार को मृतक रामपाल का पोस्टमार्टम हो सका। इसके बाद गांव शव पहुंचा। पुलिस की मौजूदगी में शाम को अंतिम संस्कार हुआ।

आरोपी के बचाव में दर्जनों ग्रामीण पहुंचे थाने

आरोपी कालीचरणf राजपूत के बचाव में दर्जनों ग्रामीणों ने एक प्रार्थना पत्र अजनर थाना प्रभारी को सौंपा। बताया है कि घटना के समय प्रधान पति कालीचरण घर पर ही खाना खा रहे थे। गांव वालों ने ही जाकर उन्हें हत्या होने की सूचना दी थी। गांव वालों ने घटना की निष्पक्ष जांच कराने की मांग की है। बताया कि मृतक के चाचा पूरन पंचायत चुनाव लड़े थे। उन्हें कालीचरण की पत्नी यशोदा ने हरा दिया था। इसी खुन्नस के चलते कालीचरण सहित अन्य लोगों के खिलाफ विपक्षियों ने षड्यंत्र किया है।

पुरवा पनवाड़ी हत्याकांड

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *