नमामि गंगे के अन्तर्गत दिखाई गई फिल्म एवं गढमऊ झील पर हुआ श्रमदान

झांसी। नमामि गंगें परियोजनान्तर्गत भारत सरकार के निर्देशानुसार गंगा नदी की निर्मलता व अविरलता को सुनिश्चित करने के उद्देश्य से जारी गंगा यात्रा के दूसरे दिन बुंदेलखंड विश्वविद्यालय के राष्ट्रीय सेवा योजना के तत्वावधान में एलईडी वैन के माध्यम से गंगा नदी के ऐतिहासिक, सांस्कृतिक व आध्यात्मिक महत्व को दर्शाती फिल्म का प्रदर्शन स्वयंसेवकों के समक्ष प्रदर्शित किया गया। स्वयंसेवकों द्वारा गढ़मऊ झील के आसपास के क्षेत्र की सफाई की गई एवं कचरा तथा गंदगी को निस्तारित किया।
बुन्देलखण्ड विश्वविद्यालय के कुलसचिव नारायण प्रसाद ने स्वयंसेवकों को सम्बोधित करते हुए कहा कि नदियों के बगैर हम अस्तित्व विहीन, मनुष्य अपने स्वार्थ में प्रकृति और प्राकृतिक स्त्रोंतों के साथ खिलवाड़ कर रहा है, जो आने वाली पीढियों के लिये नुकसानदेह साबित होगा। उन्होनें कहा कि हमेशा से ही जल ही जीवन के संस्कार बच्चों में दिए जाते हैं, जिसके कारण जल संरक्षण के लिए लोग पे्ररित होते हैं। अगर हम आज भी नदियों, तालाबों, पोखरों, झीलों के संरक्षण के लिए तत्पर नहीं हुए, तो तृतीय विश्व युद्ध पानी के लिए होगा, की आशंका चरितार्थ होगी। नोडल अधिकारी एवं कार्यक्रम समन्वयक डा. मुन्ना तिवारी ने स्वयंसेवकों का आव्हान किया कि भारत सरकार द्वारा निकाली जा रही गंगा यात्रा, केवल मां गंगा की अविरलता और निर्मलता को सुनिश्चित करने के लिए नहीं है, बल्कि यह देश की सारी नदियों को प्रदूषण मुक्त कर उनको अविरल एवं निर्मल करने का आव्हान है, जिसमें समुदाय की भागेदारी बहुत जरुरी है। उन्होनें स्वयंसेवकों से बुन्देलखण्ड को पानीदार बनाने का आव्हान किया। इस दौरान गंगा नदी के ऐतिहासिक और पौराणिक महत्व को दर्शाती फिल्म का प्रदर्शन एलईडी वैन के माध्यम से हिन्दी विभाग के समक्ष किया गया। वहीं अविरल गंगा-निर्मल गंगा अभियान के अन्तर्गत स्वामी विवेकानंद डिग्री कॉलेज की कार्यक्रम अधिकारी डा. मिली भट्ट, डा. रश्मि दुबे, जगदीश परिहार के नेतृत्व में स्वयंसेवकों द्वारा गढमऊ झील के आसपास से गंदगी एवं कचरे की सफाई कर उसे सुन्दर बनाया गया। इस दौरान  पत्रकारिता विभाग के पूर्व विभागाध्यक्ष डा. सीपी पैन्युली, डा. उमेश कुमार, डा. अनुपम व्यास, डा. नवीन चन्द्र पटेल सहित स्वयंसेवक अमन नायक, रोहित प्रजापति, शाश्वत कुमार सिंह, प्रियांशु गुप्ता, श्यामजी तिवारी, मोहित कुमार आदि उपस्थित रहे। कार्यक्रम का संचालन डा. मुहम्मद नईम व आभार डा. श्वेता पाण्डेय ने व्यक्त किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *