झांसी वासियों को कोरोना के खौफ से राहत, संदिग्ध मरीज के सैंपल की रिपोर्ट नेगेटिव

झांसी। गुरुवार से खौफजदा जनपद वासियों को शनिवार की देर रात चैन मिला। जब उन्हें जानकारी हुई कि कोरोना के संदिग्ध मरीज के भेजे गए सैंपल की रिपोर्ट नेगेटिव आई है। करीब 50 घंटों से चल रहा कोरोना संदिग्ध का असमंजस भरा मामला देर रात लखनऊ से सैंपल की रिपोर्ट आने के बाद सुलझ चुका है। फिलहाल रिपोर्ट आने के बाद लोगों के साथ ही जिला प्रशासन और मेडिकल काॅलेज प्रशासन ने राहत की सांस ली है।
गौरतलब है कि बड़ागांव बचावली में रहने वाले निमोनिया पीड़ित भवानी सिंह को 3 दिन पहले गुरुवार की शाम मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया था। उसकी हालत को देखते हुए उसे कोरोना पीड़ित माना जा रहा था। कोरोना संदिग्ध मानते हुए उसका सैंपल लखनऊ भेजा गया था। लेकिन तकनीकी कारणों के चलते सैंपल की जांच नहीं हो पाई थी। पहले वाले सैंपल की रिपोर्ट शनिवार को आनी थी। जिसे लेकर काफी जिज्ञासा भरा माहौल बना हुआ था। इस दौरान लखनऊ से दोबारा सैंपल मांग लिया गया। लोगों की दहशत और भी बढ़ गई थी। साथ असमंजस का साया गहरा गया था। शनिवार को एक बार फिर भवानी का सैंपल झांसी से भेजा गया था। देर रात लखनऊ में जांच के दौरान मरीज के सैंपल में कोरोना नेगेटिव पाया गया। इस बात की पुष्टि मेडिकल कॉलेज में सुपर स्पेसियलिटी सेण्टर की कोरोना संबंधित विशेष सेल संभाल रहे समिति अध्यक्ष डॉ एन एस सेंगर ने की।
मेडिकल कॉलेज प्रशासन व रिश्तेदारों को राहत
कोरोना संदिग्ध मरीज का पहला सैंपल शुक्रवार को भेजा गया था और दूसरा सैंपल शनिवार को भेजा गया। इस दौरान उन लोगों को भी चिन्हित कर लिया गया था जो मरीज के आसपास रहे, जिसमें उसके परिजन और नातेदार शामिल थे। ऐसे सभी 6 लोगों पर नजर रखी जा रही थी। उन्हें भी आईसोलेशन वार्ड में भर्ती कराकर उन पर नजर रखी जा रही थी। ताकि जरुरत पड़ने पर वक्त रहते उनका भी उपचार शुरू हो सके। ऐसे में संदिग्ध मरीज का कोरोना नेगेटिव आने के बाद सभी नातेदारों व रिश्तेदारों को क्लीन चिट सी मिल गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *